3 माह के भीतर 500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट लगाएगा DRDO, PM केयर्स फंड से मिलेगी मदद

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
PM केयर्स फंड से मदद लेकर देश में 500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण DRDO की ओर से किया जाएगा। हर रोज देश में कोरोना संक्रमण के मामले 3 लाख से अधिक आ रहे हैं। महामारी की इस दूसरी लहर ने देश की कमर तोड़ दी है।

नई दिल्ली, एजेंसी। महामारी कोविड-19 की दूसरी लहर ने देश की व्यवस्था को चरमरा दिया है। अस्पतालों में बेड और दवाईयों की कमी के साथ ऑक्सीजन की भारी किल्लत है। इस क्रम में आज रक्षा मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, देश में 500 मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण रक्षा अनुंसधान एवं विकास संगठन (DRDO) की ओर से पीएम केयर्स फंड के तहत किया जाएगा। यह जानकारी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने दी। रक्षा मंत्री  ने ट्वीट में कहा, ‘DRDO द्वारा LCA तेजस के लिए विकसित मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट (MOP) टेक्नोलॉजी  से वर्तमान में कोविड-19 मरीजों के लिए हुई ऑक्सीजन की किल्लत से निपटने में मदद मिलेगी।’ बता दें कि DRDO द्वारा विकसित किए जाने वाले मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट टेक्नोलॉजी  LCA, Tejas के ऑन-बोर्ड ऑक्सीजन जेनरेशन का काम करती है। 

भारत में कोविड-19 मामलों में तेजी के कारण अनेक राज्यों में मेडिकल ऑक्सजीन व हॉस्पीटल बेड की भारी किल्लत है। DRDO ने एक बयान में बताया कि MOP टेक्नोलॉजी का ट्रांसफर बेंगलुरु के टाटा एडवांस सिस्टम लिमिटेड व कोयंबटूर के ट्राइडेंड न्यूमैटिक्स को किया जाएगा। इसके बाद ये दोनों कंपनियां मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना करेंगी। इन प्लांटों से प्रति मिनट 1000 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन हो सकेगा। 

Advertisement / विज्ञापन

बता दें कि अमेरिका समेत दुनिया के अन्य देशों से भारत को ऑक्सीजन सिलेंडर समेत तमाम आवश्यक चीजों की आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा DRDO की ओर से हरियाणा के हिसार और पानीपत में 500-500 बिस्तरों के दो कोविड अस्पताल स्थापित किए जाएंगे। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि सेना की पश्चिमी कमान को इन अस्पतालों के लिए डॉक्टर और अन्य चिकित्सा कर्मी उपलब्ध कराने को कहा गया है

 41 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!
WhatsApp chat