Khulasa Rajgarh M.P.:-चिकित्सक ने कहा- मटमैला पानी सेहत के लिए नुकसानदायक – डॉ. शरद साहू

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ब्यूरो रिपोर्ट भोपाल :- खबर एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करें – 7879222104

5 दिन बाद आए नल, उसमें मटमैला बदबूदार पानी, सीएमओ ने कहा- कुशलपुरा डैम में बहकर आई खेतों की मिट्‌टी से गंदा हो गया पानी

नल- जल योजना के तहत हो रही सप्लाई में नलों में आ रहे मटमैले पानी की समस्या से लंबे समय से परेशान है शहरवासी

ब्यावरा शहर में एक तो लोगों को 5 से 6 दिन के अंतराल बाद नल जल योजना के तहत पानी सप्लाई कराया जा रहा है, उसमें भी मटमैले व बदबूदार पानी की समस्या से रहवासी परेशान हुए हैं। पिछले तीन दिन से शहर में सप्लाई हो रही पानी में मटमैले व बदबूदार पानी की समस्या और भी ज्यादा बढ़ गई है। ऐसे में लोगों के सामने खासी दिक्कतें खड़ी हो गई है। दरअसल शहर में नगरपालिका द्वारा नल- जल योजना के तहत सभी 18 वार्डों में अलग अलग शिफ्टों में जलापूर्ति की जा रही है। इसमें मौजूदा वक्त में मटमैला व बदबूदार गंदा पानी आना आम बात है। मंगलवार को राजगढ़ रोड, पंचशील कॉलोनी क्षेत्र में सप्लाई के दौरान पूरे समय मटमैला पानी ही आया। शुरु में लोगों ने सोचा कि कुछ देर मटमैला पानी आकर बाद में साफ पानी आ जाएगा, लेकिन पूरे समय ऐसा ही मटमैला पानी आया। ऐसे में बाद में लोगों ने मजबूरन इसी पानी के पानी के रूप में भरना पड़ा।


पंचशील कॉलोनीवासियों ने कहा- शिकायतों के बाद भी नहीं सुधार:
पंचशील कॉलोनी के रहवासियों सीता यादव, कौशल्या भिलाला, अनिता वर्मा, विनीता शाक्यवार, आरती शर्मा आदि ने कहाकि, मंगलवार को पूरे वक्त नलों में बहुत ज्यादा गंदा व मटमैला पानी आया है। उसमें भी सड़ांध की बदबू उठ रही है। आरोप है कि, रहवासी मटमैले पानी की कई बार शिकायतें कर चुके हैं लेकिन जिम्मेदार ध्यान नहीं देते हैं। लोगों का कहना है इतना गंदा पानी हम कैसे पीएं, पीना तो छोड़ो नहाने में भी इसे पानी उपयोग नहीं कर पा रहे हैं।


चिकित्सक ने कहा- मटमैला पानी सेहत के लिए नुकसानदायक:
मटमैला पानी शरीर के लिए नुकसानदायक है। डॉ. शरद साहू के अनुसार मटमैले व गंदे पानी को पीने से पेट संबंधी बिमारियां होने का अंदेशा है। खासकर पेट संबंधित बीमारियों की प्रबल संभावना होती है। इससे बचाव के लिए लोगों को साफ, शुद्ध पानी का सेवन करना चाहिए।

Advertisement / विज्ञापन


लगातार बारिश की वजह से कुशलपुरा डैम में आसपास खेतों से मिट्टी बहकर आकर पूरी तरह से मिल गई है। पानी को फिल्टर करने एलम व ब्लीचिंग का एक निर्धारित मापदंडानुसार इस्तेमाल किया जा रहा है। पानी साफ करने अधिक मात्रा में एलम नहीं डाल सकते हैं। एक- दो दिन में मिट्‌टी नीचे जमने पर साफ पानी उपलब्ध हो सकेगा।
संजय श्रीवास्तव, सीएमओ नपा परिषद् ब्यावरा

 472 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!