Khulasa Rajgarh M.P.:-लापरवाही: मामले में हाईप्रोफाइल दखल के बाद कलेक्टर के आदेश पर जांच करने ब्यावरा पहुंचे एडीएम ने साढ़े 4 घंटे लिए बयान

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ब्यूरो रिपोर्ट भोपाल :- खबर एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करें – 7879222104

दर्द बढ़ने के नाम पर तड़पती प्रसूता को 12 घंटे भर्ती रखा, रात एक बजे राजगढ़ रैफर, वहां भी बगैर देखे भोपाल रैफर, रास्ते में नॉर्मल डिलेवरी के बाद नवजात की मौत

लापरवाही: मामले में हाईप्रोफाइल दखल के बाद कलेक्टर के आदेश पर जांच करने ब्यावरा पहुंचे एडीएम ने साढ़े 4 घंटे लिए बयान

प्रसूता के नवशिशु की मौत मामले में केंद्रीय मंत्री के दखल के बाद सख्त हुआ प्रशासन


सिविल अस्पताल ब्यावरा में ड्यूटी डॉक्टर की लापरवाही से डिलेवरी के लिए भर्ती कराई गई तड़पती प्रसूता के नवजात शिशु की मौत का मामला सामने आया है। ब्यावरा हॉस्पिटल में नॉर्मल डिलेवरी होने की बात कहकर प्रसूता को दर्द बढ़ने के नाम पर पहले 12 घंटे भर्ती रखा और रात एक बजे राजगढ़ रैफर कर दिया गया। वहां भी ड्यूटी डॉक्टर ने बगैर मरीज को देखे भोपाल रैफर कर दिया। रास्ते में प्रसूता की नॉर्मल डिलेवरी होने के बाद नवजात शिशु की (नाड़ी नहीं कटने से) मौत का मामला सामने आया है। प्रसूता का रिश्तेदार केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की आईटी टीम का सदस्य होने से दिल्ली से हाईप्रोफाइल दखल के बाद नवजात शिशु की मौत के मामले में मप्र शासन के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने संज्ञान लिया है। जिस पर कलेक्टर ने भी एडीएम को जांच सौंपी है। मामले में हाईप्रोफाइल स्तर से हुए दखल की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि, कलेक्टर के निर्देश पर एडीएम केसी नागर ने एसडीएम जूही गर्ग के साथ सिविल हॉस्पिटल ब्यावरा पहुंचकर बंद कमरे में 4 घंटे तक ऑनड्यूटी रहे स्टाफ व डॉक्टरों, प्रसूता व उसके परिजनों के बयान लिए।


प्रसूता के पति का आरोप

प्रसूता के पति का आरोप ,लापरवाही से हुई मेरे बेटे की मौत प्रसूता के पति फिरोज खान ने बताया कि, उन्होंने प्रसूव पीड़ा होने पर अपनी पत्नी परवीन को सोमवार दोपहर एक बजे प्रसव पीड़ा होने पर सिविल अस्पताल में भर्ती कराया था। यहां ड्यूटी डॉ. शैली गर्ग ने कहा कि, नॉर्मल डिलेवरी होना है, इसलिए दर्द बढ़ने का इंतजार करो। फिरोज का आरोप है कि, वह अपनी पत्नी को भोपाल ले जाना चाहता था लेकिन लेकिन शाम को नर्सिंग स्टाफ ने कह दिया कि, बच्चा उल्टा हो गया है, जिससे परेशानी हो सकती है। रात को दर्द बढ़ने पर ड्यूटी डॉ. आरके जैन (जो अपने घर पर सो रहे थे) को बुलाकर रात एक बजे राजगढ़ रैफर कर दिया। रात करीब 2 बजे राजगढ़ पहुंचे तो वहां भी ड्यूटी डॉक्टर पूजा तिवारी भी सूचना के करीब 45 मिनट बाद मेटरनिटी पहुंची और बिना मरीज को देखे ही सिर्फ रिपोर्ट आदि देखकर भोपाल रैफर कर दिया। रात 3 बजे फिरोज अपनी पत्नी को लेकर भोपाल जा रहा था, तभी रात 3:45 बजे बाईहेड़ा के पास नॉर्मल डिलेवरी हुई जिसमें परवीन ने नवजात शिशु को जन्मदिन लेकिन समय पर नाड़ी नहीं कटने से महज 5 से 10 मिनट में ही नवजात की मौत हो गई। वे प्रसूता व बच्चे को लेकर वापस सिविल अस्पताल आए, यहां नवजात को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।


केंद्रीय मंत्री के हस्तक्षेप के बाद सक्रिय हुए स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी:


प्रसूता के पति फिरोज खान का भाई जावेद खान केंद्रीय मंत्री श्री सिंधिया की सोशल मीडिया आईटी सेल टीम का मेंबर है। घटना के बाद मंगलवार सुबह प्रसूता के परिजनों ने केंद्रीय मंत्री श्री सिंधिया को इसकी सूचना दी।

केंद्रीय मंत्री के हस्तक्षेप के बाद मप्र शासन के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने प्रशासन को पूरे मामले की बारीकी से जांच कराकर सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद कलेक्टर नीरजकुमार सिंह ने तुरंत एडीएम को जांच सौंपकर बयान लेने ब्यावरा भेजा।


अब राजगढ़ में भी हो सकेंगे प्रसव, एंसथेटिक डॉ. कुकरेले को बुलाया राजगढ़: इस प्रकरण के सामने आने के बाद कलेक्टर भी सख्त हो गए हैं। उन्होंने सीएमएचओ डॉ. राजेंद्र कटारिया को ब्यावरा में पदस्थ एन्सथेटिक डॉ. कुकरेले को राजगढ़ पदस्थ करने के निर्देश दिए। साथ ही एडीएम श्री नागर को प्रसूता के नवजात शिशु की मौत की जांचकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

Advertisement / विज्ञापन


कलेक्टर के निर्देश पर जांच की जा रही है। हमने ब्यावरा में ड्यूटी स्टाफ व डॉक्टरों के बयान लिए हैं। जांच पूरी होने के बाद कलेक्टर को प्रतिवेदन सौंपेंगे।
कमलचंद नागर, अपर कलेक्टर राजगढ़

 590 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!