खुलासा साहित्यिकि//-राष्ट्रवादी लेखक संघ द्वारा प्रत्येक शुक्रवार होने वाले ‘कविता वैचारिकी का 13वां सोपान सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राष्ट्रवादी लेखक संघ द्वारा प्रत्येक शुक्रवार होने वाले ‘कविता वैचारिकी का 13वां सोपान सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।

यह आयोजन ‘गूगल मीट’ और ‘फेसबुक लाइव’ के माध्यम से किया गया। इस ‘कविता वैचारिकी’ की अध्यक्षता आदरणीय डॉ. डी.एस.तोमर (उत्तरप्रदेश) ने की।

कार्यक्रम का आरंभ मां वीणापाणी की वंदना से हुआ। कार्यक्रम की संचालिका हेमा जोशी(नैनीताल) ने सरस्वती वंदना की प्रस्तुत की- ‘शारदे सरस्वती कल्याण कारिणी/नमस्कार तुझको करें वीणावादिनी’ जौनपुर से जुड़ी तनु सिंह ने अपनी रचनाओं के माध्यम से सभी का ध्यान आकर्षित किया। ‘जो गरीबों के गरीबी पर किये प्रहार बैठे हैं/थानों में कर रहे अपराध ऐसे पचासों थानेदार बैठे हैं!’ बरेली से कवि गजेंद्र जी ने अपने रचना पाठ से सबकी वाहवाही लूटी- ‘सर्वस्व समर्पित राष्ट्र हित/हम हैं सुभाष के अनुगामी’प्रयागराज से उपस्थित कवि विप्लव यादव जी ने प्रेमपरक कविता पढ़ी और अपने मधुर कंठ से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया-‘ये प्रेम व्रेम अब होगा नहीं/ये चाहत वाहत खेल है।’विशेष आमंत्रित आदरणीय दीप शुक्ला जी (कनाडा) ने ‘वसंत’ और ‘राष्ट्रवाद’ पर अपनी ओजमयी वाणी में प्रस्तुति देकर सभी श्रोतागणों को आनंदित कर दिया- ‘एक राष्ट्र नहीं टूटा करता/कुछ ग़द्दारों की टोली से/ भारत का भाग्योदय होगा/ कुछ और कुहासा होने दो।’कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे आदरणीय डॉ. डी.एस.तोमर जी (आगरा) ने अपने सुंदर गीत के माध्यम से कार्यक्रम का समा बांध दिया- ‘एक राष्ट्र नहीं टूटा करता कुछ ग़द्दारों की टोली से/ भारत का भाग्योदय होगा/ कुछ और कुहासा होने दो।

Advertisement / विज्ञापन

‘राष्ट्रवादी लेखक संघ के राष्ट्रीय संयोजक आदरणीय यशभान जी ने अंत में ‘कविता वैचारिकी’ की समालोचना प्रस्तुत करते हुए कहा- ‘समय आ गया कविता को वामपंथ के छद्म वाग्जाल से बचाकर राष्ट्रीयता की ओर लेकर चला जाए।’ अंत में कार्यक्रम के संयोजक अरविंद कुमार मौर्य जी ने सफल वैचारिकी के लिए सभी साहित्यकारों को धन्यवाद ज्ञापित किया और सभी को सफल आयोजन के लिए बधाइयां दी। इस आयोजन में श्रीमती चेतना ‘चितेरी’, श्री आदित्य विक्रम श्रीवास्तव और श्री अरविन्द अवस्थी जी आदि साहित्यकार भी उपस्थित रहे । मीडिया प्रसारण का कार्य मध्य प्रदेश से विनीत सराठे ‘पार्थ’ द्वारा किया गया। यह ‘कविता वैचारिकी’ राष्ट्रवादी लेखक संघ द्वारा प्रत्येक शुक्रवार आयोजित की जाती है।

 166 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!
WhatsApp chat