Bhopal MP Khulasa//सुरक्षा के लिए हर घर में रखें लाइसेंसी अस्त्र-शस्त्र, संस्कृति मंत्री ऊषा ठाकुर बोलीं – मुसलमानों का इतिहास देख लीजिए, चौथी और पांचवीं पीढ़ी हिंदू ही होगी !

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश की पर्यटन, संस्कृति और अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि वर्तमान में बढ़ रहे खतरों से निपटने के लिए हर घर में लाइसेंसी अस्त्र-शस्त्र और शास्त्र रखे जाएं। घरों में महापुरुषों के चित्र भी लगाए जाएं। देश को सही इतिहास से वंचित रखा गया है। अब समय आ गया है कि देश को सही इतिहास बताया और पढ़ाया जाए। मंत्री ठाकुर ने भोपाल में भोजपुर क्लब में राजपूत महापंचायत की महिला विंग द्वारा मंगलवार को आयोजित नारी शक्ति कार्यक्रम में कहा कि इतिहास उठाकर देख लीजिए, मुसलमानों की चौथी और पांचवीं पीढ़ी हिंदू ही होगी। मेरे सामने भी ऐसे कई उदाहरण हैं। मोहन भागवत का बयान पूरी तरह से सही है

उन्होंने कहा कि कि भारत ही नहीं पूरे विश्व का भगवाकरण होना चाहिए

तभी मानवता के लिए सुख शांति आ पाएगी। भगवा का अर्थ त्याग और तपस्या है, भोग-विलास नहीं। अगर ये सभी गुण इंसानों में आ जाएं तो इससे अच्छा क्या होगा। ठाकुर ने MBBS में RSS के नेताओं के पाठ शुरू करने के प्रस्ताव का समर्थन किया। ठाकुर ने कहा जब प्रेरक व्यक्तियों का इतिहास पढ़ाया जाता है तो निश्चित ही सेवा भाव सभी में जागृत होती है।

उन्होंने माना कि आजादी के बाद की पुस्तकों में मुगलों का ज्यादा ही महिमामंडन किया गया है। हमें इतिहास में बाबर और गजनी पढ़ाया गया, जबकि राजपूतों की शौर्य गाथाओं को दबा दिया गया। उन्होंने बच्चों को संस्कार देने और परिवार के बेहतर स्वास्थ्य के लिए अध्यात्मिक शिक्षा और नियमित पूजा-हवन करने का आह्वान किया। गीतकार जावेद अख्तर द्वारा तालिबान से RSS की तुलना करने को उन्होंने दुखद बताया। उन्होंने कहा कि जिस देश ने जावेद अख्तर को नाम और शोहरत दी, उस देश के सेवाभावी संगठन के बारे में ऐसा कहना दुखद है। उनको बोलने से पहले सोचना चाहिए था। तालिबान के बर्बर शासन की तुलना संघ से करना बिल्कुल गलत है।

उषा ठाकुर के चर्चित बयान

1.अल्पसंख्यकों को वंदे मातरम् गाने में आपत्ति है तो साक्षात मां दुर्गा की प्रतिमा के आसपास गरबा कैसे कर सकते हैं? यदि अल्पसंख्यक गरबे में आना चाहें तो परिवार से मां, बहन या पत्नी को साथ लेकर आएं। आयोजकों से कहा था कि गरबा पंडालों से मुस्लिम लड़कों को दूर रखा जाए। लड़कियों से भी कहा था कि वे बैकलेस और लो वेस्ट ड्रेस न पहनें

2.महिलाएं तरक्की के लिए शॉर्टकट अपनाती हैं। अपने निजी स्वार्थ के लिए नैतिक मूल्यों से समझौता कर लेती हैं, इसलिए वो परेशानी में पड़ जाती हैं। मूल्यों से समझौता करने के बाद मिली सफलता का कोई मतलब नहीं है।

3. सारे आतंकवादी मदरसों में पले-बढ़े और जम्मू-कश्मीर को आतंकवाद की फैक्ट्री बना डाला। मदरसों को मिलने वाली सरकारी मदद बंद होनी चाहिए। अगर कोई निजी तौर पर अपने धार्मिक संस्कार किसी को देना चाहता है तो संविधान उसे इसकी इजाजत देता है।

Advertisement / विज्ञापन

4. जेएनयू में देशद्रोही नारे लगाने वाले कन्हैया जैसे लोगों के लिए उनकी मां भी जिम्मेदार हैं। कन्हैया की मां ने उसे लोरी में देशभक्ति नहीं सिखाई…। देशद्रोही बनने के पीछे परवरिश की कमी होती है। संस्कारों की कमी से भी लोग देशद्रोही बन जाते हैं

 27 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!