सीहोर एमपी//नेमावर में हुए जघन्य हत्याकण्ड के आरोपी हत्यारों को हो शीघ्र फांसी-डॉ.घासीराम मालवीय//

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अखिल भारतीय बलाई महासभा सीहोर जिला इकाई ने सौंपा महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन
नेमावर में हुए जघन्य हत्याकण्ड के आरोपी हत्यारों को हो शीघ्र फांसी-डॉ.घासीराम मालवीय
सीहोर।
Advertisement / विज्ञापन

अखिल भारतीय बलाई महासभा जिला सीहोर के अध्यक्ष डॉ. घासीराम मालवीय के नेतृत्व में आज जिला मुख्यालय कलेट्रेट कार्यालय पहुंचकर महामहिम राज्यपाल महोदय के नाम अपर कलेक्टर श्री आदित्य जैन को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन का वाचन डॉ.घासीराम मालवीय द्वारा किया गया। जिसमें मांग की गई है कि मध्यप्रदेश के देवास जिले के नेमावर में दलित समुदाय के कास्ते परिवार का जगन्य हत्या काण्ड हुआ । आदिवासी समुदाय के परिवार के पांच सदस्यों की हत्या कर शवों को नेमावर के नजदीक खेत में करीब 10 फीट की गहराई में गाड़ दिया गया और साक्ष्य छुपाने की दृष्टी से शवों को गलाने के लिए उनके उपर संभवत: नमक-युरिया आदि भी डाला गया । आदिवासी समूदाय परिवार के साथ घटित हत्या काण्ड अत्यन्त जंगन्य एवं क्रुरता पूर्ण कृत्य है। मृतकों के गुमशुदगी के 47 दिन बाद संदिग्ध से पूछ ताछ स्थानीय प्रशासन की कार्य प्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लगाता है ।
विगत् 47 दिन पहले ही समाजजनो ने मुख्य आरोपी का नाम बता दिया गया था तब भी गिरफ्तारी में विलंब किया गया , थाना प्रभारी को भी इस घटना में सहआरोपी बनाया जाये , क्योकि देरी के चलते बलात्कार के सबूत नष्ट हो गये बॉडी डिकम्पोज्ड हो गई । ज्ञापन यह भी कहा गया कि मृतक युवती से शादी का झांसा देकर आरोपी उसका शौषण करता रहा जब युवती ने शादी की बात कही तो आरोपी को नागवार गुजरा और आरोपी ने साथियों के साथ युवती और उसके परिवार के पांच सदस्यो को जान से मार दिया । युवती के शव पर कपड़े न होना बलात्कार जैसी घिनोनी घटना को दर्शाता है इसलिए एक्ट्रो सीटी की धारा जोड़ी जाये ।
अखिल भारतीय बलाई महासभा मांग की है कि देवास के नेमावर में आदिवासी परिवार के साथ घटित जगन्य घटना की जांच सी.बी.आई से कराई जावे और आरोप पत्र बनाने की जिम्मेदारी किसी आईपीएस अधिकारी को दी जाये व स्पेशल प्रोसिक्युटर नियुक्त किया जाये एवं पीडि़त परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी एवं एक करोड़ रूपये मुआवजा के साथ पुलिस सुरक्षा उपलब्ध कराई जाये । फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाकर जल्द से जल्द आरोपियो को फांसी की सजा दिलाई जावे ताकि आदिवासी परिवार को निष्पक्ष न्याय मिल सके और प्रदेश की आदिवासी समाज का व्यवस्था पर विश्वास सुनिश्चित रहे। ज्ञापन सौपने वालों में प्रमुख रुप से रामकिशन मालवीय, रामचरण मालवीय, फूलचंद नागदा, सिद्धुु मालवीय, रामकिशन मालवीय, रामचरण मालवीय, भवानी सिंह, धनसिंह मालवीय, जनमसिंह परमार, बी.एस.भदोरिया, राजेश मालवीय, जितेन्द्र मालवीय, रुपबसंत, सुनील संतोष मालवीय आदि उपस्थित रहे।

khulasa news live सीहोर संवाददाता 🎤 लोकेश योगी 🎤 की विशेष रिपोर्ट

 27 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!
WhatsApp chat