REWA MP KHULASA//6 गोवंश तस्करों को पकड़कर किया लालगांव पुलिश के हवाले रीवा एसपी के दिशानिर्देश पर हुई कार्यवाही सामाजिक कार्यकर्ता शिवानन्द द्विवेदी ने अपनी टीम के साथ करवाई कार्यवाही

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

   रीवा में गोवंश तस्करी का कार्य जोरों पर चल रहा है। कहने को तो पुलिस और जिला प्रशासन है लेकिन मौके पर सब वारदात होने के बाद पहुंचते हैं। अभी हाल ही में 5 जून 2021 को पर्यावरण दिवस के दिन रीवा जिले के थाना गढ़ क्षेत्र में लालगांव चौकी अंतर्गत आने वाले ग्ग्राम पंचायत हिरुडीह के ग्राम मड़फा तालाब के पास लगभग 75 की संख्या में दो दो गोवंश को आपस में बांधे हुए कुल 75 से 80 की संख्या में गोवंश को करीब 6 व्यक्ति जिनके नाम क्रमशः जमालुद्दीन पिता नियाज खान, ग्राम बड़का डोल थाना मझौली, जान मोहम्मद पिता मोहब्बत खान निवासी ग्राम खोखरा थाना मड़वास, इस्माइल खान पिता सलीम खान निवासी ग्राम सलेहा थाना मझौली, अनीश पिता  कालूखान ग्राम खोखरा थाना मड़वास, नसरुद्दीन पिता मिट्ठू खान ग्राम खोखरा थाना मड़वास सभी निवासी जिला सीधी हैं पशुओं को ले जा रहे थे। उसी समय इसकी जानकारी सूत्रों के माध्यम से सामाजिक कार्यकर्ता एवं गोवंश के अधिकारों के लिए लड़ने वाले शिवानंद द्विवेदी को दी गई जिस पर तत्काल पुलिस अधीक्षक रीवा  राकेश सिंह को सूचित किया गया एवं साथ में मामले की जानकारी डायल हंड्रेड में भी रिकॉर्ड की गई एवं गढ़ टीआई टेकाम और लालगांव चौकी प्रभारी यूबी सिंह को भी बताई गई। मौके पर स्वयं एक्टिविस्ट शिवानंद द्विवेदी अपनी टीम के साथ पहुंच गए थे। इस प्रकार मौके पर लगभग डेढ़ घंटे के बाद लालगांव चौकी प्रभारी यूबी सिंह डायल हंड्रेड की टीम के साथ पहुंचे और सभी 6 आरोपियों को साथ लेकर लाल गांव चौकी गए और उनसे पूछताछ की।

   मामले में आगे क्या कार्यवाही की इस विषय में जब लालगांव चौकी प्रभारी को संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उनके द्वारा बताया गया की उनके द्वारा बताया गया कि शाम लगभग 6:00 बजे तक आरोपियों से पूछ समझती जारी थी और बयान लिया जा रहा था फूल स्टॉप

🔸 *मामले के तार थाना गढ़ पदस्थ सहायक एसआई शिव कुमार राठिया से जुड़े*

    मामले में एक नया खुलासा गांव वालों ने किया और बताया की वर्तमान समय में थाना गढ़ में पदस्थ एएसआई शिव कुमार राठिया का ग्राम भी सीधी में ही पड़ता है और यह सभी मुस्लिम पशु तस्कर उन्हीं के ग्राम के आसपास के निवासी है। कठमना निवासी छोहन यादव के संपर्क और साथ में रक्सा माजन निवासी छोटेलाल कुम्हार के द्वारा इन पशु तस्करों को यहां पर बुलाया जाता था और एएसआई राठिया की मदद से यहां से सीधी की तरफ निकाला जाता था। पुलिस संबंधी जो भी अड़चनी आती थी वह राठिया के द्वारा और तत्कालीन लालगांव चौकी में पदस्थ कर्मचारियों और सिपाहियों के द्वारा पैसे ले देकर निपटा दिया जाता था।
     हालांकि इस बात को स्वयं छोहन यादव और उसके लड़के के द्वारा भी वीडियो में पुलिश के सामने स्वीकार किया गया और बताया गया कि यहां से पुलिस की यह सब पुलिश के सहयोग से होता है। मुस्लिम पशु तस्करों ने बताया कि उनका सभी थानों में रीवा से लेकर सीधी तक फिक्स रहता है और पैसा देकर बच जाते हैं।

Advertisement / विज्ञापन

    अब सवाल यह है कि जिस प्रकार नए खुलासे हुए हैं और तत्कालीन लालगांव चौकी प्रभारी जो कि वर्तमान में गढ़ थाना में सहायक उपनिरीक्षक के पद पर पदस्थ है उसके कार्यशैली पर प्रश्न खड़ा हो गया है। अब देखना होगा कि अब जब इन तस्करों को पुलिस के हाथों सुपुर्द किया गया है पुलिस अब आगे क्या कार्यवाही करती है? क्या पुलिस गढ़ थाना क्षेत्र और पूरे रीवा जिला में धड़ल्ले से चल रही चल पशु तस्करी को बंद करवा पाती है अथवा यह यूं ही जारी रहती है।

 20 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!
WhatsApp chat