Khulasa Rajgarh M.P.:-श्रीमद भगवत गीता ज्ञान यज्ञ संपन्न हुआ ,गीता में भगवान ने दो प्रवृत्तियों का वर्णन किया है देवी प्रवृत्ति आसुरी प्रवृत्ति

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ब्यावरा => श्रीमद भगवत गीता ज्ञान यज्ञ संपन्न हुआ गीता में भगवान ने दो प्रवृत्तियों का वर्णन किया है देवी प्रवृत्ति आसुरी प्रवृत्ति

Advertisement / विज्ञापन


जब हम बुराई कमी कमजोरियों निंदा चुगली करते हैं तब वह आसुरी प्रवृत्ति कहलाती हैं और जब हम दोनों अच्छाइयों का उपयोग करते हैं तब वहां देवी प्रवृत्ति कहलाती हैं यह दोनों प्रवृतियां हमारे अंदर ही मौजूद हैं तो ध्यान रख कर हमें देवी प्रवृत्ति को ही जागृत रखना है और आसुरी प्रवृत्तियों का उपयोग ना कर उन्हें कमजोर कर समाप्त कर देना है उक्त विचार कथावाचक योग शक्ति ब्रह्मा कुमारी सुमित्रा दीदी ने प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय सहित कॉलोनी द्वारा आयोजित परम सिटी में चल रहे गीता ज्ञान यज्ञ में व्यक्त किए आगे उन्होंने बताया कि राज्यों के द्वारा हमें परमात्मा का ध्यान करना है प्रातः 4:00 बजे उठकर कुछ समय उनके ध्यान से आत्मा में बल भरना है इससे देवी प्रवृतियां जागृत होती है भोजन के साथ-साथ भजन का भी ध्यान रखना है अर्थात् परमात्मा की याद में भोजन बनाना व स्वीकार करना है जिससे वह भोजन प्रसादी बन जाता है। योगशक्ति दीदी ने सभी से पान्च खोटे सिक्के व एक आना मांगा अर्थात पांच विकारों का दान व संस्था में नित्य एक बार आकर ज्ञान श्रवण करने का कहा । गीता माता की पूजा अर्चना से ज्ञान यज्ञ का दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ किया गया जिसमें मुख्य जजमान महेश अग्रवाल, मीरा अग्रवाल ,ब्रम्हाकुमारी मधु दीदी , लक्ष्मी दीदी व जिले की समस्त ब्रह्माकुमारी दीदीया उपस्थित रही। पूर्व विधायक नारायण सिंह पंवार जी ने गीता माता की पूजा कर कथा वाचक योग शक्ति सुमित्रा दीदी का श्री फल पुष्प माला से सम्मान किया गया । अन्त में हवन कुंड मे सभी बुराइयां ,विकार, व्यसन बीमारियों को स्वाहा किया गया। इस अवसर पर ब्यावरा सहित जिले भर से आई हुई दीदीयो का पुष्पमाला श्रीफल , मुकुट एवं वस्त्रों से किया समान संस्था से जुड़े हुए पूरे जिले भर से ब्रह्माकुमार भाई बहन तथा ब्यावरा नगर के महानुभाव उपस्थित रहे।

 182 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!
WhatsApp chat