Umariya (M.P.)//Nowrozabad//पंचायती भ्रष्टाचार की कीमत, गरीब ने अपनी जान देकर चुकाई

Advertisement / विज्ञापन
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नौरोजाबाद 01 जून –

ग्राम पंचायत में फैले भ्रष्टाचार की कीमत एक मजदूर को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी। दरअसल उमरिया जिले के नौरोजाबाद थाना अंतर्गत बड़ागांव निवासी मजदूर दिनेश सिंह ने ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार से तंग आकर आत्महत्या कर ली। मृतक की जेब से सुसाइड नोट मिला है जिसके अनुसार रोजगार सहायक से प्रताड़ित होकर मृतक दिनेश सिंह ने यह आत्मघाती कदम उठाया है।

मृतक की पत्नी

दरअसल पूरा मामला यह है कि उमरिया जिले के नौरोजाबाद थाना अंतर्गत बड़ागांव ग्राम पंचायत निवासी दिनेश सिंह बहुत गरीब था। परिजनों की मानें तो दिनेश सिंह का नाम पंचायत के पीएम आवास सूची में भी शामिल था। लिहाजा शासन द्वारा जब दिनेश सिंह को पहली किस्त के रूप में 25 हजार रुपए प्राप्त हुए तो उसमें से 10 हजार रुपये रोजगार सहायक सुबोध सिंह ने घूस के नाम पर अपने पास रख लिए। बाद में जब हितग्राही को दूसरी किश्त की राशि नहीं मिली तो हितग्राही दिनेश सिंह ने रोजगार सहायक से अपने रुपए वापस मांगना शुरू कर दिया। लेकिन रोजगार सहायक ने रुपए देने से इनकार कर दिया। रोजगार सहायक की इस हरकत से दिनेश सिंह को इतनी आत्मग्लानि हुई कि मजबूर होकर उसने घर के कमरे में ही फांसी का फंदा बनाया और उसमें लटक कर मौत को गले लगा लिया।

घटना के बाद जब नौरोजाबाद थाना पुलिस मौके पर पहुंची तो मृतक की जेब से एक सुसाइड नोट बरामद किया। जिसमें साफ-साफ लिखा हुआ है कि रोजगार सहायक ने पहले तो 10 हजार ले लिए इसके बाद रुपए लौटाने से मना कर दिया । जिसके चलते मैं दिनेश सिंह खुदकुशी करने जा रहा हूं।

यह पहला मामला नहीं है जब बड़ा गांव के रोजगार सहायक सुबोध सिंह पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा हो। इसके पहले भी सुबोध सिंह द्वारा पंचायत के कई लोगों से अवैध रुपए वसूले गए। इसी तरह के एक मामले में कलेक्टर द्वारा सुबोध सिंह को सस्पेंड भी कर दिया गया था। साथ ही हितग्राही से लिए गए रुपये समेत 25 हजार हर्जाना की राशि हितग्राही को दिलवाई गई थी। आरोप यह भी है कि रोजगार सहायक द्वारा खुलेआम भ्रष्टाचार किया जा रहा है। साथ ही आला अधिकारियों को जेब में रखने की बात कही जा रही है। शायद यही वजह है कि यह घटना में रोजगार सहायक का नाम आने के बाद भी पुलिस ने अब तक आरोपी के खिलाफ कोई अपराध दर्ज नहीं किया है।

मृतक दिनेश सिंह के परिजनों का आरोप है कि रोजगार सहायक द्वारा मामले की जांच को प्रभावित करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। मृतक के परिजनों ने यह भी मांग की है कि आरोपी सुबोध सिंह के विरुद्ध दिनेश सिंह को आत्महत्या के लिए उकसाने का अपराध दर्ज किया जाए । अब पुलिस इस मामले में क्या करती है यह तो आने वाला वक्त ही बता पाएगा।

जितेंद्र सिंह जाट एसडीओपी ने जानकारी देते हुए बताया कि बड़ागांव ग्राम पंचायत निवासी दिनेश सिंह ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी जिसके जेब से एक सुसाइड नोट मिला है पुलिस द्वारा कार्यवाही की जा रही है जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर उचित कार्यवाही की जाएगी

Advertisement / विज्ञापन

रोजगार सहायक सुबोध सिंह से जब इस मामले में बात करनी चाही तो सुबोध सिंह ने कुछ भी बोलने से मना करते हुए कहा, जो मृतक के परिजन बोल रहे हैं आप वही खबर चला दीजिए।

 104 Total Views,  1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

English English हिन्दी हिन्दी
Don`t copy text!
WhatsApp chat