Friday, 7 April, 2023

बैरसिया MP खुलासा//बैरसिया में श्री मदभागवत गीता ज्ञान यज्ञ का सातवाँ दिवस पूर्ण होने पर हुआ भव्य समापन

मनुष्य जीवन में पांच विकारों को करों स्वाहा, ज़िंदगी हो जायेगी वाह वाह। आपको बता दें कि प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय सेवा केन्द्र बैरसिया के तत्वावधान में श्री मदभागवत गीता पर आधारित ज्ञान यज्ञ एवं राजयोग शिविर के सातवें दिवस में प्रवचनकर्ता राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी नीलम बहन ने सर्वप्रथम श्री मदभागवत गीता जी की आरती के बाद श्रीराम का आह्वान करते हुए कहा कलियुग बैठा मार कुंडली, जाऊँ तो मैं कँहा जाऊँ। अब हर घर में रावण बैठा, इतने राम कहाँ से लाऊँ।अपने अंदर के राम को पहचानने की जरूरत हैं रावण माना बुराई , अवगुण और राम माना अच्छाई, गुण, विशेषताएं। परिवर्तन ही संसार का नियम है। हमें ही कलियुग में रहते ही अपनी बुराइयों को खत्म कर अच्छाई में परिवर्तित करना हैं। यज्ञ का मतलब- त्याग, बलिदान, शुभ कर्म। यज्ञ कुण्ड में अग्नि के माध्यम से देवता के निकट पहुँचाने की प्रक्रिया को यज्ञ कहते हैं।हवन कुंड में अग्नि प्रज्वलित करने के पश्चात इस पवित्र अग्नि में घी,फल, शहद, घी, काष्ठ इत्यादि पदार्थों की आहुति प्रमुख होती है। तन-मन-धन से उत्पन्न जो विकार से जवां -तन, तिल- मन और घी- धन ।ये तीनों चीजों (घी, जवां, तिल) को स्वाहा करना हैं। सबसे पहले मन करता है कि कुछ कार्य किया जाए तो फिर तन द्वारा किया जाता हैं और धन से विकर्म किया। जिससे 5 विकार (काम, क्रोध, लोभ, मोह, अंहकार) पैदा होते हैं।।यह राजस्व अश्वमेघ अविनाशी रुद्र गीता ज्ञान यज्ञ परमात्मा द्वारा यज्ञ आयोजित किया गया है।हम सब इस अविनाशी यज्ञ के यजमान हैं,हम इस यज्ञ के रक्षक हैं,यह एक ऐसा यज्ञ हैं जहाँ मन की चंचलता, विचलित इंद्रियों, बुराइयों,विकारों को स्वाहा करना पड़ता हैं। वर्तमान में हमारा मन रूपी अश्व कलियुग में पुर्णतः फंस चुका हैं। मन कलियुगी पाप कर्मों में लिप्त हो चुका है।अब कलियुग के अंतिम समय,कयामत का समय हैं।अंतिम समय में हमें परमात्मा को याद करके,उससे शक्तियां ले कर मन की चंचलता को, मन के भटकाव को दूर कर सकते हैं। तो हमें आज इस यज्ञ में मन के भटकाव,व्यर्थ को,विकर्मों को स्वाहा करना हैं। मेडिटेशन अभ्यास के बाद श्री मदभागवत जी की आरती कर प्रसाद वितरण किया गया।इस अवसर पर कथा आयोजक बैरसिया सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी शालू बहन,सतना से लीला बहन,सागर से पार्वती बहन, राहतगढ़ से अभिलाषा बहन बैरसिया न.पा.अध्यक्ष तनुश्री कुलदीप सिंह राठौर,दीपक दुबे, द नेशनल पावर ग्रुप प्रदेश अध्यक्ष जयनारायण बैरागी,डॉली वीरेन्द्र साहू गौ सेवा रथ चालक रामबाबू मालवीय सहित अन्य भाई-बहन,माताएं और नगर वासी बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल रहें।

 1,832 Total Views

WhatsApp
Facebook
Twitter
LinkedIn
Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Rajgarh Khulasa M.P:- पानी के लिए दिल्ली जैसे हालात पैदा होने की बनी स्थिति, जिले में एक नही बल्कि दो राज्य मंत्री फिर भी ग्रामीण क्षेत्रों में मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं 

ग्राम पंचायत सरेडी में पानी की किल्लत से ग्रामीण परेशान  दिल्ली जैसे

 14,704 Total Views

Search