Monday, 1 May, 2023

बैरसिया MP खुलासा//कविता एक नारी की…सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी

बैरसिया खुलासा रामबाबू मालवीय


  • कविता एक नारी की…

सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी..

 सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी

           अपना एक आशियाना बनाऊंगी

        सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी ! मन में खुशी से खूब हर्षाऊंगी

दिल में प्यार की लहर जगाऊंगी

         सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी !

 झूमते गाते सबको नचाऊंगी

       हस -हस के सबको अपना बनाऊंगी

         सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी !

लहरों सी मन में उमंग जगाऊंगी

             दिन रात अपने सपने सजाऊंगी 

         सोचा है एक दिन चांद पर जाऊंगी !

                                लेखिका

                   दीपिका ज्ञान सिंह मालवीय

 1,390 Total Views

WhatsApp
Facebook
Twitter
LinkedIn
Email

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Rajgarh Khulasa M.P:- पानी के लिए दिल्ली जैसे हालात पैदा होने की बनी स्थिति, जिले में एक नही बल्कि दो राज्य मंत्री फिर भी ग्रामीण क्षेत्रों में मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं 

ग्राम पंचायत सरेडी में पानी की किल्लत से ग्रामीण परेशान  दिल्ली जैसे

 14,711 Total Views

Search